Monday, June 23, 2014

लिखूँ तो क्या लिखूँ

लिखूँ तो लिखूँ क्या
तेरा नाम या
तेरे नाम कोई पैगाम?

प्रेम लिखूँ, प्रियतम लिखूँ
या लिखूँ प्राणनाथ?
कुछ न लिखूँ तो
कोरे कागज पर ही
लिख दूँ तुझे
'तू है मेरी जान'

तू ही बता तारीफों के पुल बाधूँ
या लगा दूँ तुझ पर
मेरी नाफरमानी का इल्जाम?
कह दे तू तो खामोशी से
बन जाऊँ मैं तेरी गुलाम

फूल भेजूँ, गुलदस्ता भेजूँ
या भेज दूँ लिखकर मेरा नाम?
इत्र लगाऊँ, रंगों से सजाऊँ
या लगा लूँ सीने से यह पैगाम
तू ही बता कैसे भेजूँ तुझे पैगाम?

- गायत्री 

1 comment: