Posts

Showing posts from August, 2010

ये मिलन है कितना प्यारा

Image
कितना सुकून है दोस्तों प्रकृति की गोद में ... हरियाली का घना आँचल है दोस्तों प्रकृति की गोद में ... कल कल का कलरव करते झरने फूटे चट्टानों के सीनों से बरखा रानी की बाट जोहते थे जो पिछले कई महीनों से बरखा से दीदार करने को प्रकृति ने खुद को सजाया उसकी खूबसूरती पर निखार लाने को सूरज मीठी मीठी सुनहरी धूप लाया बादल ने ठंडी बयारों का आँचल प्रकृति को पहनाया देखों बरखा संग प्रकृति के मधुर मिलन का मौसम आया। - गायत्री शर्मा नोट : यह कविता मेरी स्वरचित है व साथ ही कविता के साथ संलग्न चित्र भी मेरे द्वारा ही लिया गया है। कृपया इनका उपयोग करने से पूर्व मेरी अनुमति जरूर लें।

अबकी राखी लाई लंबा इंतजार

Image
राखी पर अपने भाई अमित के इंतजार में भूमिका दरवाजे की ओर टकटकी लगाए उसके आगमन के इंतजार में पलके बिछाए बैठी है। वहीं अमित के माता-पिता दरवाजे से आती हर आहट पर चौककर देखते हैं कि शायद कोई उनके बेटे अमित के मिलने की खबर आया होगा। जिसे सुन उनके मन को कुछ संतोष मिलेगा और उनका लंबा इंतजार खत्म होगा पर अब वक्त हर दिन उनके हाथों से रेत की तरह फिसलता जा रहा है लेकिन उनके बेटे का कोई पता नहीं चल पा रहा है। अबकी राखी पर जहाँ हर घर में जश्न का माहौल है। वहीं रतलाम में कस्तूरबा नगर निवासी हरीशचंद्र शर्मा के घर में पिछले कई दिनों से सन्नाटा ही सन्नाटा पसरा हुआ है। यहाँ बस गूँजती है तो फोन की घंटियाँ या अमित के इंतजार में बार-बार बेसब्र होते माता-पिता के करूण रूदन की आवाजें। इस घर में हर किसी के माथे पर नजर आती चिंता की मोटी लकीरे व पल-पल में डबडबाती आँखों के आँसू बस हर मिलने-जुलने वालों से यही सवाल पूछ रहे है कि क्या आप हमारे अमित को ढूँढकर ला सकते हो? इस परिवार का बेटा अमित शर्मा गुड़गाँव की 'इंफो एज इंडिया' कंपनी में फील्ड ऑफिसर के पद पर कार्य कर रहा था। कंपनी के लिए बिहार के बक्सर म